कल्पना चावला की संक्षिप्त जीवनी, महत्वपूर्ण प्रश्न, तथ्य – Kalpana Chawla’s Biography, Facts and Important Questions

कल्पना चावला की संक्षिप्त जीवनी, महत्वपूर्ण प्रश्न, तथ्य – Kalpana Chawla’s Biography, Facts and Important Questions

 

कल्पना चावला के बारे में जीवनी और महत्वपूर्ण प्रश्न / तथ्य पढ़ें

Kalpana Chawla Biography

  • जन्म व माता पिता

भारत की बेटी-कल्पना चावला करनाल, हरियाणा, भारत में एक हिंदू भारतीय परिवार में जन्म लिया था। उनका जन्म 17 मार्च् सन् 1962 में एक भारतीय परिवार में हुआ था। लेकिन आधिकारिक तौर पर जन्म तिथि 1 जुलाई, 1961 है। यह मध्यम वर्ग का परिवार था। उनके पिता श्री बनारसी लाल हैं। वह एक टायर फैक्ट्री के मालिक हैं। उनकी मां सुनीयोगिता एक हाउस वाइफ हैं। उसका एक भाई है जिसका नाम सुंजय है। यह एक शुद्ध शाकाहारी हिंदू परिवार है। वह अपने परिवार के चार भाई बहनो में सबसे छोटी थी। घर में सब उसे प्यार से मोंटू कहते थे।

 

  • प्रारम्भिक जीवन व शिक्षा

बचपन से ही कल्पना अन्य लड़कों की तरह, वह क्रिकेट खेलना पसंद करती थी और कराटे सीखी थी। वह शायद ही कभी अन्य लड़कियों की तरह घर का काम करती होगी। वह काफी बहिर्मुखी थी। कल्पना कक्षा में पहले तीन स्थान पर हमेशा रहीं। वह हवाई जहाज, आकाश, सितारों और उड़ान से भी प्यार करती थी। उसे उड़ान भरने का शौक था।

कल्पना की प्रारंभिक पढाई “टैगोर बाल निकेतन” में हुई। कल्पना जब आठवी कक्षा में पहुची तो उसने इंजिनयर बनने की इच्छा प्रकट की। उसकी माँ ने अपनी बेटी की भावनाओ को समझा और आगे बढने में मदद की। पिता उसे चिकित्सक या शिक्षिका बनाना चाहते थे। किंतु कल्पना बचपन से ही अंतरिक्ष में घूमने की कल्पना करती थी। कल्पना का सर्वाधिक महत्वपूर्ण गुण था – उसकी लगन और जुझार प्रवृति। कलपना न तो काम करने में आलसी थी और न असफलता में घबराने वाली थी। उनकी उड़ान में दिलचस्पी J R D Tata ‘जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटासे प्रेरित थी जो एक अग्रणी भारतीय विमान चालक और उद्योगपति थे।

चावला ने 1976 में करनाल के टैगोर स्कूल से स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद उन्होंने 1982 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बी.एससी। किया। उच्च अध्ययन के लिए वह यूएसए चली गईं। कल्पना ने 1984 में टेक्सास विश्वविद्यालय से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में M.Sc पूरा किया।

कल्पना जी ने 1986 में दूसरी विज्ञान निष्णात की उपाधि पाई और फिर 1988 में कोलोराडो विश्वविद्यालय से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी पूरी की। इसके बाद उन्हें 1988 में नासा एम्स रिसर्च सेंटर में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में काम करने का अवसर मिला और उन्होंने ओवेर्सेट मेथड्स इंक के उपाध्यक्ष के रूप में काम करना शुरू किया, उन्होंने वहाँ वी/एसटीओएल में सीएफ़डी पर अनुसंधान किया।

कल्पना जी को हवाईजहाज़ों, ग्लाइडरों व व्यावसायिक विमानचालन के लाइसेंसों के लिए प्रमाणित उड़ान प्रशिक्षक का दर्ज़ा हासिल था। उन्हें एकल व बहु इंजन वायुयानों के लिए व्यावसायिक विमानचालक के लाइसेंस भी प्राप्त थे। अन्तरिक्ष यात्री बनने से पहले वो एक सुप्रसिद्ध नासा कि वैज्ञानिक थी।

  • नासा कार्यकाल

उन्हें 1994 में नासा द्वारा चुना गया था। कल्पना जी मार्च 1994 में नासा के अंतरिक्ष यात्री कोर में शामिल हुईं और उन्हें 1995 में अपनी पहली उड़ान के लिए चुनी गयीं थी। वह अंतरिक्ष यात्रियों के 15 वें समूह में अंतरिक्ष यात्री उम्मीदवार के रूप में जॉनसन स्पेस सेंटर में शामिल हुईं। फिर नवंबर 1996 में, उसे एक विशेषज्ञ के रूप में अपना पहला मिशन मिला। उ

नका पहला अंतरिक्ष मिशन 19 नवम्बर 1997 को छह अंतरिक्ष यात्री दल के हिस्से के रूप में अंतरिक्ष शटल कोलंबिया की उड़ान एसटीएस-87 से शुरू हुआ। कल्पना जी अंतरिक्ष में उड़ने वाली प्रथम भारत में जन्मी महिला थीं और अंतरिक्ष में उड़ाने वाली भारतीय मूल की दूसरी व्यक्ति थीं। राकेश शर्मा ने 1984 में सोवियत अंतरिक्ष यान में एक उड़ान भरी थी। कल्पना जी अपने पहले मिशन में 1.04 करोड़ मील का सफ़र तय कर के पृथ्वी की 252 परिक्रमाएँ कीं और अंतरिक्ष में 360 से अधिक घंटे बिताए। एसटीएस-87 के दौरान स्पार्टन उपग्रह को तैनात करने के लिए भी ज़िम्मेदार थीं, इस खराब हुए उपग्रह को पकड़ने के लिए विंस्टन स्कॉट और तकाओ दोई को अंतरिक्ष में चलना पड़ा था। पाँच महीने की तफ़्तीश के बाद नासा ने कल्पना चावला को इस मामले में पूर्णतया दोषमुक्त पाया, त्रुटियाँ तंत्रांश अंतरापृष्ठों व यान कर्मचारियों तथा ज़मीनी नियंत्रकों के लिए परिभाषित विधियों में मिलीं। एसटीएस-87 की उड़ानोपरांत गतिविधियों के पूरा होने पर कल्पना जी ने अंतरिक्ष यात्री कार्यालय में, तकनीकी पदों पर काम किया, उनके यहाँ के कार्यकलाप को उनके साथियों ने विशेष पुरस्कार दे के सम्मानित किया।

 

  • वैवाहिक जीवन

1983 में वे एक उड़ान प्रशिक्षक और विमानन लेखक, जीन पियरे हैरीसन से मिलीं और शादी की और 1990 में एक देशीयकृत संयुक्त राज्य अमेरिका की नागरिक बनीं।

 

  • मृत्यु

2000 में उन्हें एसटीएस-107 में अपनी दूसरी उड़ान में एक मिशन विशेषज्ञ के रूप में अंतरिक्ष में एक और यात्रा करने का मौका मिला।। यह अभियान लगातार पीछे सरकता रहा, कई बार देरी होने के बाद, कार्यक्रम ने 2003 में उड़ान भरी। यह सफल मिशन था।।

16 जनवरी 2003 को कल्पना जी ने अंततः कोलंबिया पर चढ़ के विनाशरत एसटीएस-206 मिशन का आरंभ किया। उनकी ज़िम्मेदारियों में शामिल थे स्पेसहैब/बल्ले-बल्ले/फ़्रीस्टार लघुगुरुत्व प्रयोग जिसके लिए कर्मचारी दल ने 80 प्रयोग किए, जिनके जरिए पृथ्वी व अंतरिक्ष विज्ञान, उन्नत तकनीक विकास व अंतरिक्ष यात्री स्वास्थ्य व सुरक्षा का अध्ययन हुआ।

अंतरिक्ष पर पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला कल्पना चावला की दूसरी अंतरिक्ष यात्रा ही उनकी अंतिम यात्रा साबित हुई।

1 फरवरी, 2003 की सुबह, अंतरिक्ष पृथ्वी पर लौट रहा था। सब कुछ ठीक था। लैंडिंग से 16 मिनट पहले, स्पेस शटल हवा में टूटकर पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश करने लगा। शटल नष्ट हो गई और सात का पूरा दल मारा गया।

 

  • पुरस्कार (मरणोपरांत:)

1. काँग्रेशनल अंतरिक्ष पदक के सम्मान

2. नासा अंतरिक्ष उड़ान पदक

3. नासा विशिष्ट सेवा पदक

 

कल्पना चावला न केवल हरियाणा की बल्कि पूरे भारत की एक महान बेटी हैं। वह मरने के बाद भी जीवित है। उसने देश के इतिहास में अपना नाम सुनहरे शब्दों में दर्ज किया है।

 

कल्पना चावला के जीवन और कैरियर से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न / तथ्य

1. कल्पना चावला का जन्म कब हुआ था?

उत्तर – 1 जुलाई 1961 को

 

2. दुखद अंत को पूरा करने वाले चालक दल के कितने सदस्य थे?

उत्तर – सात (कल्पना चावला सहित)

 

3. उन सभी क्रू मेंबर्स का नाम बताइए, जो उस आखिरी अभियान का हिस्सा थे?

उत्तर – 1. पायलट विलियम सी। मैककूल 2. कमांडर रिक डी हसबैंड 3. पेलोड कमांडर मिचेल पी। एंडरसन 4. पेलोड स्पेशलिस्ट इलन रेमन (वह पहले इजरायली एस्ट्रोनॉट थे) 5. मिशन विशेषज्ञ डेविड एम ब्राउन 6. मिशन विशेषज्ञ लॉरेल बी क्लार्क 7. कल्पना चावला

 

4. भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कौन है?

उत्तर – कल्पना चावला

 

5. उन्होंने एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बी.एससी।

उत्तर – पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज (PEC)

 

6. नासा का पूर्ण रूप क्या है?

उत्तर – नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन

 

7. वह दो मिशनों का हिस्सा थी। दोनों मिशनों में उसने अंतरिक्ष में कितना समय बिताया?

उत्तर – 30 दिन, 14 घंटे और 54 मिनट

 

8. कल्पना के जीवनसाथी (पति) का क्या नाम है?

उत्तर – जीन पियरे हैरिसन

 

9. कल्पना चावला की मृत्यु कब हुई?

उत्तर – 1 फरवरी 2003

 

Download HSSC Mock Test With Answer Key HSSC Important Questions – HSSC परीक्षा में पूछे गए महत्वपूर्ण प्रश्न

Read More Latest Changes in Haryana gk – Haryana Current Affair for HSSC

Haryana GK in Hindi

Haryana GK in English

HSSC Mock Test & Question Paper

Haryana Current Affairs

Haryana Gk in Hindi downloadList of State Highways in Haryana – हरियाणा के राज्य-राजमार्गों की सूचि

हरियाणा के जिले की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!